Flamenco

Flamenco

नींदें

ये जो सो जाती हो दिन को मेरे कांधे पे रख कर सर,
कौन है जिसने रातों की नींदें उड़ा रखी है? - वीर

No comments: