Flamenco

Flamenco

आवाज़

बढा दी है आवाज़ लोगों ने,
रात के भजन की, दिन के अज़ान की;
या तो होड़ है,
कि पहले तू किस को चुनता है;
या शायद मान बैठे हैं सब,
कि तू कुछ ऊंचा सुनता है।
- वीर

No comments: